Hindi (India)English (United Kingdom)

नवीनतम निविदाएं

 

अद्यतन निविदाएं -

यहॉ क्लिक करें : 

___________________________________________________________________

यहॉ क्लिक करें : 

___________________________________________________________________

यहॉ क्लिक करें : 

___________________________________________________________________

 

सार्वजनिक सूचनाएं - Public Notices

सार्वजनिक हित का प्रकटन एवं सूचना देने वाले की सुरक्षा पर भारत सरकार का संकल्प ।

भारत सरकार ने भ्रष्टाचार के किसी आरोप या पद के दुरुपयोग एवं समुचित कार्रवाई की अनुशंसा पर लिखित शिकायतें प्राप्त करने के लिए ''पदनामित एजेंसी के रुप में'' मुख्य सतर्कता आयुक्त को प्राधिकृत किया है ।

इस संबंध में आयुक्त का कार्य क्षेत्र केंद्र सरकार के किसी कर्मचारी या किसी केंद्रीय अधिनियम के अंतर्गत स्थापित किसी निगम, सरकारी कंपनियों, सोसायटियों या केंद्र सरकार के मालिकी या नियंत्रण के स्थानीय प्राधिकरणों को इस संबंध में प्रतिबंधित कर सकता है ।

राज्य सरकारों द्वारा नियोजित कार्मिक और राज्य सरकारों या इसके निगमो आदि की गतिविधियॉ आयोग के दायरे में नहीं आती ।

इस संबंध में आयोग जो ऐसी शिकायतें प्राप्त करेगा, शिकायतकर्ता के पहचान की गोपनीयता  बनाए रखने का उत्तरदायी होगा ।

अतएव सामान्य जनता को सूचित किया जाता है कि इस संकल्प के अंतर्गत की गई कोई शिकायत निम्न पहलुओं का अनुपालन करना चाहिए :

i ) शिकायत बंद / सुरक्षित लिफाफे में होनी चाहिए ।

ii) लिफाफा सचिव केंद्रीय सतर्कता आयोग को संबोधित होना चाहिए और उसके ऊपर ''सार्वजनिक हित प्रकटन के अंतर्गत शिकायत'' लिखा हुआ होना चाहिए । यदि लिफाफे पर उपर्युक्त नहीं लिखा होगा और बंद नहीं किया गया होगा तो उपर्युक्त संकल्प के अंतर्गत आयोग को शिकायतकर्ता की सुरक्षा करना संभव नहीं होगा और आयोग की सामान्य शिकायत नीति के अनुसार इस पर कार्रवाई होगी । शिकायतकर्ता को शिकायत के शुरु या अंत में या एक संलग्न पत्र में अपना नाम / पता देना चाहिए ।

iii) आयोग बिना नाम / गलत नाम से दी गई शिकायतों पर ध्यान नहीं देगा ।

iv) शिकायत का पाठ्य सावधानी से लिखा जाना चाहिए ताकि उसकी पहचान का कोई विवरण या कोई संकेत मिल सके । हालांकि  शिकायत का विवरण विशेष रुप से और जॉच योग्य होना चाहिए ।

v) व्यक्ति की पहचान की सुरक्षा के लिए आयोग कोई पावती नहीं भेजेगा और सूचना देने वालो को सलाह दी जाती है कि वे अपने खुद के हित में आयोग से कोई पत्राचार न करें । आयोग आश्वस्त करता है कि उपर्युक्त वर्णित भारत सरकार के संकल्प के अंतर्गत जॉच की जाने वाले मामले की वास्तविकताओं के अधीन यह आवश्यक कार्रवाई करेगा । यदि कोई अन्य स्पष्टीकरण अपेक्षित हो तो आयोग शिकायतकर्ता से संपर्क करेगा ।

४. आयोग इस संकल्प के अंतर्गत प्रेरित / झुंझलाहट वाली शिकायतों के विरुद्ध कार्रवाई भी कर सकता है । 

५. विस्तृत अधिसूचना की एक प्रति आयोग की वेब साइट पर उपलब्ध है ।

http://www.cvc.nic.in

केंद्रीय सतर्कता आयोग द्वारा जनहित में जारी,आई एन ए, सतर्कता भवन, नई दिल्ली

हस्ताक्षर सचिव

केंद्रीय सतर्कता आयोग